लाभांश (Dividend)

कम्पनी के शुद्ध लाभो का वह भाग जो अंशधारियों को उनके द्वारा कम्पनी में किये गए विनियोग के प्रतिफल के रूप में बांटा जाता है। उसे लाभांश कहते है कम्पनी अपने पूर्वाधिकार व समता दोनों प्रकार के अंशधारियों को लाभांश वितरित करती है। दोनों में यह अंतर है कि पूर्वाधिकार अंशधारियों को धारण किये हुए अंशो पर पूर्वनिर्धारित निश्चित प्रतिशत दर से लाभांश दिया जाता है जबकि समता अंशधारियों को लाभांश प्रतिवर्ष अस्थायी रूप से दिया जाता है। कम्पनी के शुद्ध लाभो का कितना भाग प्रतिवर्ष अंशधारिओ को लाभांश के रूप में वितरित किया जायगा तथा कितना व्यवसाय में ही संचित करके रखा जायगा, यह सुनिश्चित करना लाभांश नीति कहलाता है। 


What is Dividend
What is Dividend


लाभांश के प्रकार या प्रारूप


1) नकद लाभांश - लाभांश वितरण करने का सबसे लोकप्रिय प्रकार नकद लाभांश है। इसमें कम्पनी अपने अंशधारिओ को लाभांश का भुगतान नकद रूप में करती है। नकद लाभांश बांटने से पहले कम्पनी को उपलब्ध शुद्ध लाभो का पूर्व अनुमान लगाना आवश्यक है। 


2) बोनस अंश - बोनस अंश से आशय उस लाभांश से है जो कम्पनी द्वारा अपने अंशधारियों को नकद रूप में न देकर बल्कि निशुल्क अंशो के रूप में दिया जाता है। इस प्रकार के लाभांश को USA के स्कंध लाभांश के नाम से जाना जाता है। 


3) बॉन्ड लाभांश - जब कम्पनी के पास नकद धनराशि का अभाव होता है तो कम्पनी अपने अंशधारिओ को प्रतिज्ञा पत्र जारी करती है। जिसमे कम्पनी की ओर से दीर्घकाल में एक निश्चित तिथि को लाभांश का भुगतान करने की प्रतिज्ञा की जाती है। भारत मे बॉन्ड लाभांश नही दिया जाता है। 


4) स्क्रिप लाभांश - बॉन्ड लाभांश व स्क्रिप लाभांश में मात्र इतनी ही भिन्नता है यह स्क्रिप बॉन्ड की अपेक्षा छोटी अवधि वाले होते है। स्क्रिप लाभांश से कम्पनी के चालू दायित्व बढ़ जाते है। भारत मे स्क्रिप लाभांश भी नही दिया जाता। 


5) अंतरिम लाभांश - कम्पनी वित्तीय वर्ष के अंत मे नियमित रूप से लाभांश की घोषणा करती है परन्तु अगली वार्षिक साधारण सभा से पहले ही कम्पनी अंशधारिओ को जो लाभांश वितरित करती है उसे अंतरिम लाभांश कहते है। 


6) सम्पत्ति लाभांश - सम्पत्ति लाभांश वह लाभांश होता है जो अंशधारिओ को नकद रूप में न देकर बल्कि सम्पत्ति के रूप में भुगतान किया जाता है। जैसे कम्पनी द्वारा अंशधारिओ को निर्मित वस्तुए निशुल्क देना। 


7) अतिरिक्त लाभांश - कम्पनी का संचालक मंडल अपने पूर्व निर्धारित लाभांश भुगतान की दर अचानक में कोई परिवर्तन नही करना चाहता है क्योंकि इससे अंशो के मूल्य में भारी उत्तर चढ़ाव हो सकते है तो ऐसी दशा में कम्पनी को अतिरिक्त लाभ प्राप्त होने की दशा में कम्पनी अपने अंशधारिओ को पूर्व निर्धारित निश्चित प्रतिशत दर के साथ साथ कुछ अतिरिक्त लाभांश भी दे सकती है। 


8) संयुक्त लाभांश - संयुक्त लाभांश वह लाभांश होता है जो कम्पनी द्वारा ऊपर बताये गए प्रकारों में से एक से अधिक प्रकारों में भुगतान किया जाता है। जैसे कम्पनी अंशधारिओ को कुल लाभांश का कुछ हिस्सा नकद रूप में भुगतान करके शेष लाभांश बोनस अंशो के रूप में दे सकती है। इसे संयुक्त लाभांश कहा जाता है। 



Post a Comment