pagemaker में file menu के बारे में जाने


हेलो दोस्तों।


आज हम pagemaker के file menu के बारे में बात करेंगे। चलो शुरू करते है।



इस menu के अंदर बहुत से options होते है उनको डिटेल्स से समझना बहुत जरूरी है।  1. New - इस के द्वारा हम page maker के अंदर नया publication या नया पेज create कर सकते है। जब अगर हम
pagemaker में file menu के बारे में जाने



File menu :-


इस menu के अंदर बहुत से options होते है उनको डिटेल्स से समझना बहुत जरूरी है।

1. New - इस के द्वारा हम page maker के अंदर नया publication या नया पेज create कर सकते है। जब अगर हम किसी और पेज पर अपना काम कर रहे होते है तो भी हम उस new वाले कमांड पर क्लिक करके एक नया पेज खोल सकते है और उसमें कार्य कर सकते है।




2. Open - इस कमांड पर क्लिक करने के बाद हम अपने कम्प्यूटर में स्थित किसी फोल्डर, सीडी, या पेन ड्राइव में डाली हुई फ़ाइल को खोल कर पेज मेकर के पेज में add कर सकते है। इसपे क्लिक करके एक बॉक्स से दिखाई देता है सामने आए options में से हमको जिस भी जगह से फ़ाइल को पेज में लाना होता है हम उस जगह को सेलेक्ट करके ला सकते है।


3. Recent publications - जब हम किसी पेज में कोई कार्य कर रहे होते है और कार्य खत्म होने के बाद हम उस पेज को सेव करके बन्द कर देते है और हमको अगर उसी समय के बाद उस पेज को खोलना होता है तो हम इसी recent publication वाले कमांड पर क्लिक करते है और इसपे क्लिक करने से हमारे सामने recent या पहले क्रिएट की हुई सारी फाइल्स आ जाती है। और हम उन फाइल्स को देख सकते है।




4. Close - इस कमांड के द्वारा तत्काल पब्लिकेशन फ़ाइल को बन्द किया जाता है। जैसा कि मैने बताया जो रीसेंट पब्लिकेशन होती है उसको क्लोज किया जाता है।


5. Save - जब हम कोई पेज create करते है तो जब हमारा कार्य पूरा हो जाता है और हमको वह फ़ाइल या पेज हमारे कंप्यूटर में save करके रखना होता है तो इस save command के द्वारा यह कार्य किया जाता है।


6. Save as - इस कमांड के द्वारा हम अपने क्रिएट किये हुए पेज को दूसरे नाम से भी सेव कर सकते है। और फ़ाइल को overwrite भी किया जा सकता है।


7. Revert - इस कमांड का इस्तेमाल करके हम अपने सबसे आखिरी समय मे save की हुई फ़ाइल को restore कर सकते है। हमारे द्वारा सबसे आखिरी बार पब्लिकेशन्स को सेव करने के बाद किये गए सारे बदलावों को हटाकर , अपने पिब्लिकेशन के सबसे अंतिम सेव रूपांतरण को रिवर्ट करना, आपके बदलवा को सेव किये बिना पब्लिकेशन को बंद करना और उसे फिर से खोलने के समान है।


8. Place - इस कमांड की सहायता से text को publication में रख सकते है।


9. Acquire - इस कमांड का प्रयोग scanning करते टाइम किया जाता है। इस कमांड की सहायता से पिक्चर को स्कैन किया जाता है।


10. Export - इस कमांड की सहायता से हम किसी ऑब्जेक्ट को दूसरे डॉक्यूमेंट या फ़ाइल में export कर सकते है।


11. Links manager - इस कमांड की सहायता से प्रकाशन में विभिन्न फाइल्स से सम्बन्ध स्थापित किया जाता है।

12. Document setup - यह वह बॉक्स होता है जब हम new कमांड पर क्लिक करते है तो यही सेटअप सामने आता है। इसके अंदर हम अपने पेज की सेटिंग कर सकते है। मतलब कि जैसे पेज का साइज भरना उसका ऊपरी और नीचे की और का गैप रखना।


13. Printer styles - इसके माध्यम से प्रिंटर के विभिन्न स्टाइल्स को आदेशित किया जाता है।


14. Print - इस command के प्रयोग से हम अपने पेज का print out निकल सकते है।


15. Preferences - इस कमांड से आप अपने पसंदीदा काम को preferences दे सकते है। अगर कोई publication खुला हुआ है तो preferences में जिन विकल्पों को आप चुनते है वे उस पर लागू होते है। अगर कोई publication खुला नही है तो यह विकल्प नए पब्लिकेशन्स जो आप बाद में बनाते है उस पर लागू होता है।


16. Send mail - इस कमांड के माध्यम से e mail मनचाहे स्थानों पर भेजा जा सकता है।


17. Exit - इस कमांड के माध्यम से हम pagemaker को बंद कर सकते है। 

Post a Comment