Journal Entries in the Books of Lessee in hindi


हेलो दोस्तों।

आज के पोस्ट में हम पट्टा लेने वाले की पुस्तकों में जर्नल प्रविष्टियों के बारे में जानेंगें।


पट्टा लेने वाले की पुस्तकों में जर्नल की प्रविष्टियां (Journal Entries in the Books of Lessee)

पट्टा लेने वाले कि पुस्तकों में जर्नल की प्रविष्टियां करने की निम्न तीन प्रकार की परिस्थितियां हो सकती है :




Journal Entries in the Books of Lessee in hindi
Journal Entries in the Books of Lessee in hindi





(A)  उन वर्षों में जब अधिकार शुल्क की राशि न्यूनतम किराये से कम हो।


(B) उन वर्षों में जब अधिकार शुल्क की राशि न्यूनतम किराये के बराबर हो।


(C) उन वर्षों में जब अधिकार शुल्क की राशि न्यूनतम किराये से अधिक हो।

उप-पट्टा के बारे में जाने

A. उन वर्षों में जब अधिकार शुल्क की राशि न्यूनतम किराये से कम हो तो निम्न प्रविष्टियां की जाती है :

मान लीजिए अधिकार शुल्क 8,000 ₹ है और न्यूनतम किराया 10,000 ₹ है :

(i) अधिकार शुल्क की राशि देय होने पर :

Royalty A/c                     Dr.         ₹ 8,000
Shortworking A/c          Dr.         ₹ 2,000
         To Landlord                                         ₹ 10,000
(Amount of Royalty and Shortworking due to landlord)



(ii) भुगतान करने पर :   

Landlord                        Dr.        ₹ 10,000
To Cash/Bank A/c                                       ₹ 10,000
(Amount Paid to Landlord)



(iii) वर्ष के अंत मे अधिकार शुल्क खाते को बंद करने के लिए :
   
Profit & Loss A/c           Dr.        ₹ 8,000
To Royalty A/c                                               ₹ 8,000
(Royalty A/c closed by transferring it to P&L A/c)




B. उन वर्षों में जब अधिकार शुल्क की राशि न्यूनतम किराये के बराबर हो तो निम्न प्रविष्टियां की जाती है : 

मान लीजिए अधिकार शुल्क 10,000 ₹ है और न्यूनतम किराया भी 10,000 ₹ है :

(i) अधिकार शुल्क की राशि देय होने पर :   

Royalty A/c                    Dr.        ₹ 10,000
To Landlord                                                  ₹ 10,000
(Royalty due to Landlord)



(ii) भुगतान करने पर :   

Landlord                         Dr.        ₹ 10,000
To Cash/Bank A/c                                       ₹ 10,000
(Amount Paid to Landlord)



(iii) वर्ष के अंत मे अधिकार शुल्क खाते को बंद करने के लिए :
   
Profit & Loss A/c           Dr.        ₹ 8,000
To Royalty A/c                                               ₹ 8,000
(Royalty A/c closed by transferring it to P&L A/c)




C. उन वर्षों में जब अधिकार शुल्क की राशि न्यूनतम किराये से अधिक हो और इस आधिक्य से पिछली Shortworking वसूल करने का अधिकार हो तो निम्न प्रविष्टियां की जाती है : 

मान लीजिए अधिकार शुल्क की राशि 14,000 ₹ है जबकि न्यूनतम किराये की राशि 10,000 ₹ है :

(i) अधिकार शुल्क की राशि देय होने पर :   

Royalty A/c                    Dr.        ₹ 14,000
To Landlord                                                  ₹ 14,000
(Royalty due to Landlord)



(ii) भुगतान करने व लघुकार्य राशि को वसूल करने पर :

Landlord                        Dr.        ₹ 14,000
To Cash/Bank A/c                                       ₹ 10,000
To Shortworking A/c                                    ₹  4,000
(Payment made and shortworking recouped)



(iii) वर्ष के अंत मे अधिकार शुल्क खाते को बंद करने के लिए : 
  
Profit & Loss A/c           Dr.        ₹ 14,000
To Royalty A/c                                             ₹ 14,000
(Royalty A/c closed by transferring it to P&L A/c)



(iv) अगर लघुकार्य राशि को वसूल करने का समय समाप्त हो गया हो और इसका शेष हो तो इसे लाभ हानि खाते में हस्तांतरित करते है :

Profit & Loss A/c                                     Dr.      
To Shortworking A/c                                            
(Unrecouped shortworking transferred to P&L A/c)



नोट : प्रायः अधिकार शुल्क और न वसूल हुई लघुकार्य राशि को लाभ हानि खाते में हस्तांतरित करने की एक मिश्रित प्रविष्टि की जाती है :

Profit & Loss A/c                                    Dr.
       To Royalty A/c
       To Shortworking A/c
(Royalty and unrecouped shortworking transferred to P&L A/c) 

Post a Comment